Home » धर्म संस्कृति » शारंगधर बालाजी में करिए एक साथ 3 देवों के दर्शन

शारंगधर बालाजी में करिए एक साथ 3 देवों के दर्शन

👤 Admin 1 | Updated on:2017-05-16 18:33:46.0

शारंगधर बालाजी में करिए एक साथ 3 देवों के दर्शन

Share Post

नागपुर से 350 किमी दूर बुलधाना के प्रणीता नदी के तट पर विराजते हैं महकर के शारंगधर बालाजी. जिनकी दिव्य मूर्ति के साथ विराजे है ब्रम्हा, विष्णु और महेश.

एक साथ तीन देवताओं के दर्शन ही इस मंदिर को विशेष और अद्भुत बना देते हैं. कहते हैं ये तीनों देवता सावन के महीने में साक्षात धरती पर उतर कर भक्तों की झोली भरते हैं.

सावन के महीने में यहां पूजा और अभिषेक का महत्व बढ़ जाता है क्योंकि यहां विराजते हैं श्रृष्टि के रचयिता ब्रह्मा, पालनहार विष्णु और संहारक भगावन शिव. इस मंदिर की सबसे बड़ी विशेषता है बालाजी की 12 फीट की प्रतिमा जो हजारों साल पुरानी है. कहते हैं कि पूरी दुनिया में बालाजी की इससे बड़ी मूर्ति और कहीं नहीं है.

इस मंदिर में आकर भक्तों को एक आलौकिक अनुभूति होती है. यहां आकर मन को शांति मिलती है और आत्मा को तृप्ति. साथ ही त्रिदेव से मांगी हर मन्नत पूरी होने का विश्वास भी भक्तों को यहां खींच लाता है.

पुराणों में है मंदिर का वर्णन

यह मंदिर जितना सुंदर है उतना ही प्राचीन भी. इस मंदिर का उल्लेख पद्म पुराण, मत्स्य पुराण के साथ-साथ भागवत गीता में भी किया गया है. कहा जाता है कि एक बार शिव जी से पार्वती ने पूछा कि धरती पर ऐसा कौन सा मंदिर हैं जहां सावन के महीने में दर्शन करने से कष्टों से मुक्ति और मन को शांति मिल सकती है. तब शिव जी ने पार्वती को इसी बालाजी के दर्शन का महत्व बताया. पुराणों में बताए गए इस महत्व के चलते सावन के महीने में यहां भक्त दूर-दूर से पूजा और अभिषेक के लिए आते हैं.

बालाजी मंदिर के पुजारी नरेंद्र वाकाणी बताते हैं कि सावन के महीने में भक्त यहां आकर गीता और विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करते हैं.

इस मंदिर में सिर्फ त्रिदेव के एक साथ दर्शन ही नहीं होते बल्कि इस भव्य मूर्ति में विष्णु के दशावतार के दर्शन भी होते हैं, इसीलिए कहा जाता है कि यहां आकर देवलोक के दर्शन भी हो जाते हैं.

पत्नी महालक्ष्मी के साथ विराजते हैं विष्णु

यह दुनिया का अकेला ऐसा मंदिर है जहां भगवान विष्णु विराजते हैं अपनी पत्नी महालक्ष्मी के साथ. महकर के शारंगधर मंदिर में महालक्ष्मी भगवान विष्णु के पैरों के पास बैठी हैं. कहा जाता है कि यहां जो भी भगवान की शरण में आता है उसपर लक्ष्मी भी धन बरसाती हैं.

वैसे तो बालाजी यानी विष्णु हर मंदिर में अकेले ही विराजते हैं लेकिन ये एक ऐसा अकेला मंदिर है जहां महालक्ष्मी इनके साथ विराजती हैं और अपनी दृष्टि भगवान के पैरों पर गड़ाए हुए हैं. यानी जो भगवान कि शरण में आता है लक्ष्मी खुद व खुद उससे प्रसन्न हो जाती हैं.

सावन में पूजा का है विशेष महत्व

सावन के महीने में दस अवतार वाले बाला जी के इस मंदिर में सोमवार सुबह से ही भगवान का अभिषेक शुरू हो जाता है और भक्त घंटो यहां विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करते हैं. इस पावन महीने में बालाजी को रोज नई पोशाक पहना कर श्रृंगार किया जाता है.

इस मंदिर में आपको हर कोने में भगवान विष्णु के दर्शन होते हैं. कहा जाता है कि यहां आप जिस रूप की कल्पना कर मूर्ति की ओर देखते हैं उसी रूप में बालाजी की मुद्रा दिखाई देती है, यहां आने वालों ने ये इस अनोखे चमत्कार को महसूस भी किया है.

क्या है मंदिर की कहानी

पुराणों में बाला जी के इस मंदिर की कहानी का भी उल्लेख है, कहते हैं प्राणिता नदी की इस तट पर मेघनकर नामक एक बलवान राक्षस रहता था जो शिव की तपस्या में लीन ऋषि-मुनियों को परेशान किया करता था और तपस्या में विघ्न और बाधा डाला करता था. इससे परेशान होकर ऋषियों ने शिवजी को प्रसन्न कर उसने मुक्ति का मार्ग पूछा तो शिवजी कहा इसके संहार का शस्त्र विष्णु जी से पास है जिसे शारंग कहते हैं. तब ऋषियों ने तपस्या की जिससे प्रसन्न होकर विष्णु ने शारंग रुपि धनुष से महंगकर का वध किया. इसके बाद से इस जगह को महकर के शारंगधर बालाजी कहा जाने लगा. इस मंदिर में भी शारंग धनुष भगवान के मूर्ति में साफ दिखाई देता हैं.

जरूर करें दर्शन

मंदिर में दिव्य मूर्ति के दर्शन के साथ ठीक मंदिर के सामने विराजे हैं उनके वाहन गरुड़ जिनके दर्शन किए बगैर लौटना शुभ नहीं माना जाता.

साथ ही ऐसी मान्यता भी है कि सावन के महीने में इस मंदिर में सारे देवता आते हैं. अतः सावन के महीने में इस मंदिर का महत्व कई गुना बढ़ जाता है.

Share it
Top